I have a fever for a long time. For this reason, I am not able to update Daily Current Affairs. You all remain with me as soon as the fever will be cured. I will keep updating daily current affairs. Thank you for being with me

international court of justice & g7 countries list upsc

Today's post is about the International Court of Justice and G7 countries list, which can be asked in all types of competitive examinations. Important things about international court of justice for upsc, ntpc,rrb and banking exams.
international court of justice & g7 countries list upsc
international court of justice & g7 countries list upsc


important things about international court of justice for upsc

   अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय  

✅ स्थापना - 1946 ई. में संयुक्त राष्ट्र संघ के घोषणा पत्र के अंतर्गत
✅ मुख्यालय - शांति महल (पीस पैलस), हेग (संयुक्त राष्ट्र के छह प्रमुख अंगों के विपरीत एकमात्र संस्थान, जो न्यूयॉर्क में स्थित नहीं है।)
✅ अंतरराष्‍ट्रीय न्यायालय संयुक्त राष्ट्र का प्रमुख न्यायिक अंग है जो यह सयुंक्त राष्ट्र  संघ के मुख्य अंगों में से एक है। है। न्यायालय के प्रशासन व्यय का भार संयुक्त राष्ट्रसंघ पर है। 

✅ प्रष्ठभूमि - 
➡️ वर्ष 1899 - हेग में प्रथम शांति सम्मेलन हुआ परिणामत स्थायी विवाचन न्यायालय की स्थापना वर्ष ➡️ 1907 - द्वितीय शांति सम्मेलन हुआ और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार न्यायालय की स्थापना की

➡️वर्ष 1922 - 'लीग ऑव नेशंस' के अभिसमय के अंतर्गत अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का विधिवत्‌ उद्घाटन हुआ, जिसका कार्यकाल राष्ट्रसंघ के जीवन काल तक रहा।

➡️ वर्तमान न्यायालय - संयुक्त राष्ट्र संघ की अंतरराष्ट्रीय न्यायालय संविधि के अंतर्गतवर्तमान अंतरराष्ट्रीय न्यायालय की स्थापना   

✅ संरचना - 

➡️ न्यायाधीशों की कुल संख्या – 15(अफ्रीका से तीन, लैटिन अमेरिका और कैरेबियन देशों से दो, एशिया से तीन, पश्चिमी यूरोप और अन्य राज्यों से पाँच, पूर्वी यूरोप से दो)
➡️ गणपूर्ति संख्या - 9
➡️ न्यायाधीशों की नियुक्ति – निर्वाचन द्वारा  कार्यकाल - 9 वर्ष (कोई भी दो न्यायाधीश एक ही राष्ट्र के नहीं हो सकते है)

✅ अंतरराष्‍ट्रीय न्यायालय का अधिकार  क्षेत्र :- 

➡️ समस्त राष्ट्र अंतरर्राष्ट्रीय न्यायालय में वाद प्रस्तुत कर सकते हैं।
➡️ इसके क्षेत्राधिकार के अंतर्गत संयुक्त राष्ट्र संघ के घोषणापत्र अथवा विभिन्न संधियों तथा अभिसमयों में परिगणित समस्त मामलों पर है।
➡️ इसका क्षेत्राधिकार उन समस्त विवादों पर है, जिनका संबंध संधिनिर्वचन, अंतरर्राष्ट्रीय विधि प्रश्न, अंतरर्राष्ट्रीय आभार का उल्लंघन तथा उसकी क्षतिपूर्ति के प्रकार एवं सीमा से है। 

✅ ICJ में भारतीय न्यायाधीश(वर्तमान/पूर्व में रहे) :- 

1.दलवीर भंडारी
2.रघुनंदन स्वरूप पाठक
3.नागेंद्र सिंह
4.सर बेनेगल राव

G-7 Countries: Members, Functions and Frequently Asked Questions

G-7 देश: सदस्य, कार्य और इससे सम्बन्धित सामान्यतः पूछे जाने वाले प्रश्न
✅  G-7 या ग्रुप ऑफ सेवन एक ऐसा संगठन है, जिसमें कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसी दुनिया की सात सबसे बड़ी और उन्नत अर्थव्यवस्थाएं शामिल हैं। G-7 एक अंतरसरकारी संगठन है, जिसका गठन 1975 में उस समय की शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं द्वारा किया गया था। कनाडा, 1976 में G-7 समूह में शामिल हो गया, और यूरोपीय संघ ने 1977 से इसमें भाग लेना शुरू किया।  हाल ही में, यूएसए(USA) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि वह G-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए रूस, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया और भारत को आमंत्रित करना चाहते हैं,* जो सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा के पहले या बाद में हो सकता है।

G7 Countries list 

🟢 सदस्य:-👇👇
जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, G-7 के स्थायी सदस्य देशों में संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जापान, जर्मनी, इटली और कनाडा शामिल हैं। कनाडा के अलावा, अन्य छह देश G6 के मूल सदस्य थे। पहला शिखर सम्मेलन 1975 में फ्रांस के रामबोइलेट में आयोजित किया गया था। कनाडा 1976 में शामिल हुआ और इसका नाम बदलकर G-7 कर दिया गया। 1997 में रूस इसमें शामिल हुआ और यह G-8 बन गया। 2013 में, G8 G7 बन गया क्योंकि रूस ने क्रीमिया पर हमला किया ।इसमें, राष्ट्रों के अलावा, महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के नेताओं को भी आमंत्रित किया जाता है, जिनमें आईएमएफ, विश्व बैंक और संयुक्त राष्ट्र शामिल हैं।

G-7 Countries Functions

🟢कार्य:-👇👇

  • ग्रुप ऑफ सेवन या G-7 इन राष्ट्रों के नेताओं को एक साथ आने और उस समय के सबसे चुनौतीपूर्ण वैश्विक मुद्दों से निपटने का मौका प्रदान करता है।   
  • G-7 देशों के राजनीतिक नेता महत्वपूर्ण वैश्विक आर्थिक, राजनीतिक, सामाजिक और सुरक्षा मुद्दों पर चर्चा करने के लिए सालाना आते हैं।   
  • G-7 अपने आप को उन मूल्यों के समुदाय के रूप में मानता है जो दुनिया भर में सुरक्षा, शांति और आत्मनिर्भर जीवन के लिए खड़े हैं।   
  •  पिछले 40 वर्षों में, G-7 ने "मजबूत सुरक्षा नीति, मुख्यधारा के जलवायु परिवर्तन और समर्थित निरस्त्रीकरण कार्यक्रमों को मजबूत करने" का दावा किया है।  


🟢 सामान्यतः पूछे जाने वाले प्रश्न:-👇👇  | Frequently Asked Questions

Q. G7 अपना निर्णय कैसे लेता है? 
Q. How does G7 make its decision? 
Ans. G7 बहुमत के मतों से निर्णयों तक नहीं पहुँचता है। सभी देश, अपने सम्मेलन के घोषणा के एकमत समझौते पर पहुँचते हैं। यदि निर्णय कानूनी रूप से बाध्यकारी नहीं हैं, तो उनके वैश्विक प्रभाव को कम करके नहीं आंका जाना चाहिए।

Q. G7 के लक्ष्य क्या हैं? 
Q. What are the goals of G7? 
Ans. G-7, खुद को उन मूल्यों के समुदाय के रूप में देखता है, जो दुनिया भर में शांति, सुरक्षा और आत्मनिर्भर जीवन के लिए खड़े हैं। स्वतंत्रता और मानव अधिकार, लोकतंत्र और कानून का शासन, साथ ही समृद्धि और सतत विकास, G-7 के प्रमुख सिद्धांत हैं।

Q. G7 क्यों बनाया गया था?
Q. Why was G7 made?  
Ans.पहले तेल संकट के दौरान फ्रांस की पहल पर G-7 समूह बनाया गया था। यह विश्व की प्रमुख आर्थिक शक्तियों के बीच संवाद के लिए एक अनौपचारिक मंच के रूप में कल्पना की गई थी, जिसका उद्देश्य किसी विशिष्ट प्रोटोकॉल से मुक्त आर्थिक और वित्तीय नीतियों के समन्वय के लिए एक मंच के रूप में कार्य करना था।

Q. G-7 में किस प्रकार के मुद्दे रखे जाते है? 
Q. What kind of issues are kept in G-7? 
Ans. G-7, कंसर्ट का एक मंच है, जहां शांति और सुरक्षा, आतंकवाद-विरोध, विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन सहित प्रमुख वैश्विक चुनौतियों के लिए आम सहमति बनायीं जाती हैं।

🌐शेयर जरूर करें 🌐

Post a Comment

0 Comments

–>